फास्ट फुड, तनाव और अस्वस्थ जीवनशैली पेट के कैंसर के प्रमुख कारणों में से एक

फरीदाबाद, 29 नवंबर – भारत में पेट के कैंसर के मामलों में पिछले एक दशक में धीरे-धीरे बढ़ोतरी देखी गई है। कई पश्चिमी देशों की तुलना में, भारत में पेट के कैंसर की दर अपेक्षाकृत ज्यादा है। इस बढ़ती प्रवृत्ति का एक हिस्सा बेहतर नैदानिक उपकरणों को दिया जा सकता है जिससे अधिक सटीक रिपोर्टिंग हुई है। हालाँकि, अमृता अस्पताल, फरीदाबाद के डॉक्टरों ने कहा, फरीदाबाद के अमृता अस्पताल के डॉक्टरों ने कहा कि असामान्य आहार संबंधी आदतें – विशेष रूप से, मसालेदार और प्रीजर्वड फुड आइटम्स के प्रति झुकाव – इस बढ़े हुए प्रसार में योगदान देता है। पेट के कैंसर का प्रॉग्नोसिस, डायग्नोसिस की स्टेज के आधार पर व्यापक रूप से अलग होता है। पेट के कैंसर के प्रकारों में एडेनोकार्सिनोमा, लिम्फोमा और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्ट्रोमल ट्यूमर (जीआईएसटी) शामिल हैं। दुर्भाग्य से, पेट के कैंसर का पता अक्सर आखिरी स्टेज पर चलता है, जिससे मृत्यु दर ज्यादा हो जाती है। अमृता अस्पताल, फरीदाबाद में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सर्जरी के हेड, डॉ पुनीत धर ने कहा, “भारत में पेट के कैंसर में कई रिस्क फेक्टर्स का योगदान होता है। इनमें ज्यादा नमकीन या मसालेदार खाना, स्मोक्ड फुड, फलों और सब्जियों का कम सेवन, हेलिकोबैक्टर पाइलोरी संक्रमण, धूम्रपान, मोटापा और कुछ व्यावसायिक जोखिम शामिल हैं। बेहतर स्वच्छता और एच. पाइलोरी संक्रमण की घटती दरों के कारण कुछ जगहों पर पेट के कैंसर के मामलों में कमी हुई है। भारत में पेट के कैंसर से महत्वपूर्ण रूप से जुड़े आहार पैटर्न में ज्यादा मसालेदार खाद्य पदार्थों का सेवन शामिल है। धूम्रपान और अत्यधिक शराब का सेवन जैसे जीवनशैली कारक भी जोखिम में योगदान करते हैं। पेट का कैंसर मुख्य रूप से 50 वर्ष की आयु के बाद व्यक्तियों को प्रभावित करता है, डायग्नोसिस की औसत आयु 60 के आसपास होती है। महिलाओं की तुलना में पुरुषों में इसका प्रसार थोड़ा अधिक है, धूम्रपान और शराब का अधिक सेवन जैसे जीवनशैली कारकों के कारण पुरुषों में पेट के कैंसर का खतरा ज्यादा होता है। भौगोलिक दृष्टि से, उन क्षेत्रों में ज्यादा मामले देखे गए हैं जहां खाना अधिक मसालेदार, नमकीन या संरक्षित खाद्य पदार्थ खाते हैं। हार्मोनल अंतर और आनुवंशिक कारक भी इसमें भूमिका निभा सकते हैं, हालांकि निर्णायक सबूत के लिए और रीसर्च की आवश्यकता है। अमृता अस्पताल, फरीदाबाद में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सर्जरी के सीनियर कंसलटेंट डॉ. सलीम नायक ने कहा, पेट के कैंसर के लक्षणों में लगातार पेट में दर्द या बेचैनी, बिना किसी कारण के वजन कम होना, भूख न लगना, निगलने में कठिनाई, मतली, उल्टी और मल में खून आना शामिल हैं। हालाँकि, शुरुआती स्टेज में पेट के कैंसर के कोई खास लक्षण नहीं होते है, जो उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों के लिए नियमित जांच के महत्व पर जोर देता है। अमृता अस्पताल, फरीदाबाद में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सर्जरी के कंसलटेंट डॉ अभिषेक अग्रवाल ने कहा, “ताजे फलों और सब्जियों से भरपूर संतुलित आहार को प्राथमिकता देना, प्रोसेस्ड और प्रीजर्वड फुड आइटम्स को कम करना, धूम्रपान छोड़ना, शराब का सेवन कम करना और रेगुलर मेडिकल चेक-अप का समय निर्धारित करना, विशेष रूप से उन लोगों के लिए जिनका पेट के कैंसर का पारिवारिक इतिहास या संबंधित लक्षण हैं, यह सब पेट के कैंसर की रोकथाम के जरूरी उपाय हैं। जिन्हें पेट के कैंसर का ज्यादा खतरा है, उन व्यक्तियों के लिए नियमित जांच को अपनाने से समस्या का शीघ्र पता लगाने में सहायता मिलती है, जिससे समग्र स्वास्थ्य और कल्याण में वृद्धि होती है। सक्रिय जीवनशैली विकल्प व्यक्तियों को अपने स्वास्थ्य की जिम्मेदारी लेने के लिए सशक्त बनाते हैं, एक स्वस्थ भविष्य की नींव को बढ़ावा देते हैं। स्वास्थ्य देखभाल संबंधी असमानताएं और स्क्रीनिंग तक सीमित पहुंच भारत में पेट के कैंसर के मामलों में बढ़ोतरी को और अधिक प्रभावित करती है। भारत के कई हिस्सों में संसाधन सीमाओं और स्वास्थ्य देखभाल के बुनियादी ढांचे की असमानताओं के कारण चिकित्सा प्रगति तक पहुंच अक्सर एक चुनौती बनी रहती है। हालाँकि, यह उल्लेखनीय है कि चिकित्सा अनुसंधान ने पेट के कैंसर का शीघ्र पता लगाने के तरीकों में प्रगति की है, जिसमें बेहतर एंडोस्कोपिक तकनीक और इमेजिंग तकनीकें शामिल हैं।

Mahesh Gotwal

Mobile No.-91 99535 45781, Email: [email protected], ऑफिस एड्रेस: 5G/34A बसंत बग्गा कांपलेक्स NIT Faridabad 121001

Related Articles

Back to top button